छत्तीसगढ़ राज्य

पहली बारिश में भर गया शक्कर कारखाने में पानी, कई बोरी शक्कर हुई खराब

@ सुरज मानिकपुरी
कवर्धा।
सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना पंडरिया में पहली बारिश में पानी भर गया। इससे यहां रखी करोड़ों की शक्कर और शक्कर बनाने में उपयोग होने वाली सामग्री नष्ट हो गई। ज्ञात हो की एक वर्ष पूर्व ही इस नए शक्कर कारखाना को पूर्ण बताकर आनन् फानन में शुरू कर दिया गया था। कारखाना के अंदर जहां से शक्कर निकलती है वहां वर्षा का जल भर गया और पूरी तरह पानी में भीग कर नष्ट हो गया
शक्कर रखने की जगह न होने से लगभग 60 प्रतिशत शक्कर की बोरियों को भोरमदेव शक्कर कारखाना में रखवाया गया हैं, जिसमें व्यर्थ का ट्रांसपोर्ट चार्ज लगा। टर्बाइन को करोडों की लागत से लगाया गया था, जो की पिछले 4 महीनों से ख़राब हैं पर उसकी सुध लेने वाला कोई नही हैं। टरबाइन के खराब होने से रोज लगभग 10 लाख रूपये के बिजली विक्रय सप्लाई बंद हैं, जिससे कारखाना को करोड़ों का नुक्सान हो रहा हैं। दो माह बीत जाने के बाद भी किसानों को उनके गन्ने की फसल का भुगतान नहीं किया गया हैं। ठेके से काम करने वाले मजदूरों को दो महीनों का वेतन दिए बगैर पेड अप कर (घर बैठा) दिया गया हैं। 
वर्सन
अभी आंधी तूफान और अचानक बारिश हुई, जिसमें लगभग 20-25 क्विंटल शक्कर भीग गई है। गड्ढे में रखे मोलेसिस खराब हुआ है। भीगे पदार्थ को अगले सीजन में फिर से मशीन में डालकर शक्कर बना दिया जाएगा।
रामगोपाल जायसवाल
जीएम सरदार वल्लभ भाई पटेल शक्कर कारखाना
पंडरिया

पत्रिका

अजब गजब