छत्तीसगढ़

राज्य विधानसभा में रेणू जोगी, अमित जोगी, सियाराम कौशिक और राजेन्द्र राय पर सत्तापक्ष और विपक्ष में तीखी भिड़ंत, सदन की कार्यवाई स्थगित

रायपुर. छत्तीसगढ़ राज्य विधानसभा में मंगलवार को सत्तापक्ष विपक्ष पर हमलावर रहा। विधानसभा में शून्यकाल के दौरान भाजपा विधायक शिव रतन शर्मा ने रेणु जोगी को कांग्रेस विधायक दल की बैठक मे नहीं बुलाये जाने और उनका अपमान करने का आरोप लगया। विषय पर चर्चा करते हुए राज्य के संसदीय कार्य मंत्री अजय चन्द्राकर, उच्च शिक्षा मंत्री प्रेम प्रकाश पाण्डेय और कृषि मन्त्री बृजमोहन अग्रवाल ने रेणू जोगी को कांग्रेस विधायक दल की बैठक मे नही बुलाएं जाने को एक महिला विधायक के अपमान के साथ ही छत्तीसगढ़ विधनसभा का अपमान बताते हुये विधानसभा अध्यक्ष से पूरे मामले पर व्यवस्था की मांग की।

सत्ता पक्ष ने विधायक सियाराम कौशिक, अमित जोगी और आर के राय की विधानसभा की सदस्यता खत्म करने को लेकर नेता प्रतिपक्ष के पत्र का हवाला देते हुये नेता प्रतिपक्ष के इस कार्यवाई को भी विधानसभा सदस्यों का अपमान बताया और व्यवस्था की मांग की। इस दौरान सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच तीखी नोंक-झोंक और खूब नारेबाजी हई। बाद मे विधानसभा अध्यक्ष ने रेणू जोगी पर सत्ता पक्ष के व्यवस्था के प्रश्न को यह कहते हुये अस्वीकार कर दिया की रेणू जोगी को विधायक दल की बैठक मे बुलाना या ना बुलाना कांग्रेस पार्टी का अन्दरूनी मामला है।

दूसरी तरफ सियराम कौशिक, आर के राय और अमित जोगी की सदस्यता खत्म करने के मामले पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इस मुद्दे का परिक्षण करने के बाद वो अपना फैसला लेंगे। लेकिन अध्यक्ष के इस व्यव्स्था के बाद भी सत्ता पक्ष पूरे मामले को लेकर विपक्ष पर हमलावर रहा जिसकी वजह से सदन में सत्तापक्ष और विपक्ष आपस मे भिड़ गए और जोऱदार हंगामे और नारेबाजी की वजह से सदन की कार्यवाई पांच मिनट के लिए स्थगित करनी पड़ी।

पत्रिका

अजब गजब