बड़ी ख़बर

3 साल में पैसा 5 गुना करने का देता था झांसा, एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी का अधिकारी बता की लाखों रूपये की ठगी, दिल्ली का ठग चढ़ा पुलिस के हत्थे

रवि भूतड़ा

मास्टर माइंड अब भी पुलिस की गिरफत से बाहर-

बालोद.. हैलो मैं एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी से बात कर रहा हूँ, अगर आप 5 लाख रूपये की इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं तो 3 साल में आपको 22 लाख रूपये मिलेंगे. कुछ इस तरह से अज्ञात आरोपी खुद को एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस का अधिकारी बता कई सालों से लोगों को अपना शिकार बना उन्हें ठग रहे हैं. लोग भी ऐसे ठगों के लुभावनी बातों में व पैसों की लालच में आकर अपनी जमा पूंजी भी गंवाते आ रहे हैं. ऐसा ही एक मामला जिले के दल्लीराजहरा का सामने आया हैं, जिसमें पुलिस ने एक साल पहले हुई घटना का भांडाफोड़ करते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. जिसका खुलासा शुक्रबार को एएसपी जेआर ठाकुर ने प्रेस वार्ता में किया.

एएसपी जेआर ठाकुर ने बताया की दल्लीराजहरा थाना अंतर्गत चिखलाकसा स्तिथ ज्योति हॉस्पिटल के संचालक प्रार्थी डॉ.अशोक कुमार ठाकुर पिता रामदयाल ठाकुर वार्ड-3 निवासी ने 4 जुलाई 2017 को दल्लीराजहरा थाने में शिकायत दर्ज कराई थी कि अज्ञात आरोपी द्वारा एसबीआई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी का अधिकारी बताकर 5 लाख 83 हजार को तीन वर्ष में 22 लाख 50 हजार रूपये हो जाएगा कहकर प्रार्थी अशोक कुमार ठाकुर ने अज्ञात आरोपी के विभिन्न बैंक खातों में 7 लाख 20 हजार 322 रूपये जमा कराया. फिर कई महीनों के बाद भी अज्ञात आरोपी द्वारा प्रार्थी से और पैसों की मांग की जाने लगी तो प्रार्थी अशोक कुमार ठाकुर को ठगी का एहसास हुआ, और थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई. दल्लीराजहरा पुलिस ने उक्त मामले पर धारा 420 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर अज्ञात आरोपी की तलाश में जुट गई थी.

मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर पकड़ा आरोपी को-
साइबर से जुड़े मामलों में अज्ञात आरोपी को ढूंढ निकालने में एकमात्र कड़ी मोबाइल नंबर का लोकेशन ही होता हैं, उक्त केस में भी अज्ञात आरोपी को पकडऩे के लिए थाना दल्लीराजहरा एवं स्पेशल स्क्वॉड की टीम ने मोबाइल नंबर ट्रेस कर लोकेशन तलाश अज्ञात आरोपी तक पहुंचे. हरियाणा, उत्तरप्रदेश व दिल्ली में नंबरों को ट्रेस किया गया. एएसपी जेआर ठाकुर ने बताया की मामले को गंभीरता से लेते हुए मोबाइल लोकेशन के आधार पर थाना दल्लीराजहरा एवं स्पेशल स्क्वॉड की टीम को दिल्ली रवाना किया गया, जिसपर टीम द्वारा उक्त प्रकरण के आरोपी नरेंद्र कुमार शर्मा पिता लायक राम शर्मा (36) निवासी 5/36 ए नंबर-5 बेस्ट गोड़ा थाना भंजनपुरा जिला उत्तर पूर्वी दिल्ली को गिरफ्तार किया गया. आरोपी नरेंद्र कुमार शर्मा के पास से 1 नग बैंक के पासबुक, 4 एटीएम कार्ड, अलग-अलग बैंकों के 4 चेकबुक, पैन कार्ड, वोटर आईडी, आधारकार्ड सहित कई सारे दस्तावेज जब्त किये गए. एएसपी श्री ठाकुर ने बताया कि जब्त किये गए पासबुक व चेकबुक सभी फर्जी नामों के हैं. श्री ठाकुर ने आगे बताया की आरोपी के एक खाते में जमा 2 लाख 23 हजार रूपये को सीज कराया गया है. आरोपी नरेंद्र कुमार शर्मा को दिल्ली से ट्रांजिट रिमांड पर बालोद लाया गया है.

आरोपी नरेंद्र एकाउंट नंबर करवाता था प्रोवाइड-
पकड़ा गया आरोपी नरेंद्र कुमार शर्मा एकाउंट नंबर प्रोवाइड करवाता था, अलग-अलग जगहों से लोगों का बैंक खाता नंबर प्रोवाइड करवा अपने किए को अंजाम देता था. बकायदा एक गिरोह बना ऑफिस से अपने कामों को अंजाम देते रहे हैं. फर्जी बैंक खाते, फर्जी दस्तावेज के सहारे आरोपी लोगों को ठगी का शिकार बनाते आ रहे थे.

मास्टरमाइंड आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर-
एएसपी जेआर ठाकुर ने बताया की पकडे गए आरोपी नरेंद्र कुमार शर्मा के अलावा मास्टरमाइंड आरोपी की तलाश जारी हैं, जो जल्द ही पकड़ लिया जाएगा, श्री ठाकुर ने को बताया की पकड़े गए आरोपी के अलावा एक बहुत बड़ा गिरोह काम करता हैं, जो बकायदा एक ऑफिस बनाकर लोगों को इसी तरह फर्जी बैंक अधिकारी बन अपना शिकार बनाते हैं. बालोद पुलिस ऐसे ठगी करने वालों के खिलाफ एक अभियान बना जुट गई है.

पत्रिका

अजब गजब