अजब गजब

बच्चों के भविष्य से खिलवाड़, स्कूल से नादारद रहने वाली शिक्षिका पर कोई कार्रवाई नहीं, प्रधान पाठक भी शिक्षिका के रवैये से हैं परेशान

गुनीराम साहू कसडोल

कसडोल. एक तरफ सरकार जहां नौनिहालों की शिक्षा पर विशेष जोर दे रही है वही दूसरी तरफ शिक्षा विभाग के कर्णधार सरकार की मंशा पर पानी फेरते नजर आ रहे हैं जबकि शासन ने मॉनिटरिंग के लिये जनपद स्तर से लेकर जिला स्तर तक शिक्षा विभाग में विभिन्न अधिकारियों को तैनात कर रखा है. पर परिस्थितियां जस की तस बनी हुई हैं. ताजा मामला विकासखंड बलौदाबाजार की शासकीय प्राथमिक शाला लाटा का सामने आया है.

ग्रामीणों की शिकायत है कि सहायक शिक्षक पंचायत पद पर कार्यरत माहेश्वरी पैकरा पिछले 3 सालों से अपने कार्य में अनियमितता बरत रही हैं. उन पर आरोप लग रहे हैं कि वह अवकाश का बहाना लेकर कई दिनों तक स्कूल से नादारद रहती है. वहीं यदि स्कूल आ भी जाएं तो हस्ताक्षर कर अपने घर चली जाती है. सबसे बड़ी बात यह है कि मैडम की इन करतूतों का पर्दाफाश खुद प्रधान पाठक ने कर दिया है. प्रधान पाठक ने बताया कि कई बार वार्निंग देने के बाद भी शिक्षिका अपने कार्य के प्रति गंभीर नजर नहीं आ रही हैं.

सरपंच भी परेशान
इस पूरे मामले से जहां नौनिहाल परेशान नजर आ रहे हैं वहीं मैडम की तानाशाही से बच्चों के परिजन सहित गांव का मुखिया भी परेशान हो चुके हैं. सरपंच ने बताया कि शिक्षिका माहेश्वरी पैकरा कभी-कभार ही स्कूल आती हैं जिससे बच्चों का भविष्य संकट में है. उच्च अधिकारियों से कई बार शिक्षिका के संबंध में शिकायत की गयी लेकिन किसी भी अधिकारी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जिसके कारण मैडम के हौसले बुलंद हैं.

कार्रवाई की मांग
3 वर्षो से शासन की राशि को चुना लगा रही उक्त शिक्षिका से सभी गांववासी पीडि़त हंै विद्यालय में अध्ययनरत संजना साहू, कुमकुम मरकाम, दीपा साहू, उमेश्वरी ध्रुव एवं तिलोत्तमा कैवत्र्य ने बताया कि मैडम स्कूल खुलने के बाद से आज तक नहीं आयी हैं और ऐसा ही हाल कई वर्षों से जारी है.जिससे अब सब त्रस्त हो चुके हैं. यहां ग्रामीणों ने जिलाधीश से उक्त लापरवाह शिक्षिका की वेतनमान सहित अन्य विसंगतियों की उच्चस्तरीय जांच कराकर कार्रवाई की अपील की है.

इनका कहना है।
मेरे द्वारा 2 जुलाई से लेकर 11 जुलाई तक अर्जित अवकाश लिया गया है जिसकी सूचना प्रधान पाठक को है।
महेश्वरी पैकरा
सहायक शिक्षक पंचायत, लाटा

अर्जित अवकाश की मुझे जानकारी नहीं है और मैंडम अर्जित अवकाश समाप्त होने के बावजूद क्यों स्कूल नहीं आ रही है इसकी सूचना मुझे लिखित तौर पर नहीं है।
रामनारायण साहू
शैक्षिक समन्वयक, संकुल शिरियाडीह

आपके माध्यम से सूचना मिल रही है पूरी जानकारी शैक्षिक समन्वयक से लेकर विधिवत कार्रवाई की जाएगी।
के. एल. महिलांगे
विकासखंड शिक्षा अधिकारी, बलौदाबाजार

पत्रिका

अजब गजब