छत्तीसगढ़

बिल पास होने के बावजूद शिक्षकों के खाते में नहीं आया वेतन

बिल पास होने के बावजूद शिक्षकों के खाते में नहीं आया वेतन
बिल पास होने के बावजूद शिक्षकों के खाते में नहीं आया वेतन

जशपुर:
वेतन शाखा प्रभारी के लापरवाही की वजह से मनोरा ब्लॉक के शासकीय स्कूलों में पढ़ाने वाले लगभग डेढ़ सौ शिक्षकों को संविलियन पश्चात भी वेतन नसीब नहीं हुआ है। इसे लेकर संविलियन प्राप्त शिक्षकों में भारी नाराजगी है। ऐसा केवल उन्हीं शिक्षकों के साथ हुआ है जिनका खाता ग्रामीण बैंक में है,और जिनका वेतन बिल बीईओ के डीडीओ से बना है जबकि अपने ही बीच के अन्य साथी जिनका वेतन बिल प्राचार्यों के डीडीओ से बना है उनका वेतन जमा हो गया है। इस संबंध में जब कोषालय के अधिकारियों से बात की गई तो उनका कहना है कि यहाँ से मनोरा ब्लॉक के सभी शिक्षकों का माह जुलाई का वेतन बिल पास कर संबंधितों के खाते में राशि ट्रांसफर की जा चुकी है। बावजूद इसके आज तक शिक्षकों के खाते में वेतन जमा नहीं होना समझ से परे है। आखिर ऐसा क्यों हुआ है ये तो वेतन शाखा प्रभारी ही जाने। इस संबंध में नगरीय निकाय शिक्षक संघ के सदस्यों ने जब एबीईओ मनोरा से बात की तो उनका कहना था कि हम अभी निर्वाचन के कार्य में व्यस्त हैं,हम आप लोगों की किसी भी तरह से मदद नहीं कर सकते हैं। एक ओर जहाँ के शिक्षकों को विगत 4 माह से वेतन न मिला हो,और दूसरी ओर अधिकारियों के इस तरह का बयान आना काफी पीड़ादायक है।
इस पूरे मामले को लेकर शिक्षक अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं। आर्थिक तंगी से जूझ रहे इन शिक्षकों को माह अप्रेल 2018 से वेतन नहीं मिला है। जिससे इनकी आर्थिक स्थिति का सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।

पत्रिका

अजब गजब