छत्तीसगढ़

तबीयत बिगड़ने पर ग्रामीणों ने करीब 15 लोगों को तत्काल उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया

तबीयत बिगड़ने पर ग्रामीणों ने करीब 15 लोगों को तत्काल उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया
तबीयत बिगड़ने पर ग्रामीणों ने करीब 15 लोगों को तत्काल उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया

रायगढ़-रविवार को गढ़उमारिया गांव में दशकर्म में पुटू की सब्जी खाने के बाद ग्रामीणों की तबीयत अचानक बिगड़ने लगी। अधिकांश को उल्टी दस्त शुरू हो गया। अधिक तबीयत बिगड़ने पर ग्रामीणों ने करीब 15 लोगों को तत्काल उपचार के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इधर देर रात सूचना मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने गांव में शिविर लगाकर ग्रामीणों का उपचार कर रहा है।
गढ़उमारिया में शिवाकांत केंवट के घर पिता के दशकर्म कार्यक्रम था। यहां पैरा पुटू की सब्जी ग्रामीणों को परोसा गया, खाना खाने के कुछ घंटे बार ग्रामीणों को उल्टियां शुरू हो गई। थोड़ी बाद कुछ लोगों को दस्त होने लगा, हालत बिगड़ने पर कुछ लोग मेडिकल अस्पताल पहुंचे। इसके बाद पीड़ितों की संख्या बढ़ती गई, ग्रामीणों ने पुटू की सब्जी खाने से तबीयत बिगड़ने की बात बताई, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग के मोबाइल वेन गढ़उमारिया रवाना किया। देर रात तक करीब 15 लोगों को अस्पताल में रेफर किया। वहीं गांव में भी एक के बाद एक मरीजों की संख्या बढ़ती रही। घटना की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन के अफसर भी गांव पहुंचे। पूरी रात स्वास्थ्य कर्मी गांव में डटे रहे।
तेल की गुणवत्ता पर भी सवाल
पीड़ितों में पुटू नहीं खाने वालें भी लोग शामिल है, इसलिए दूसरे खाद्य उत्पादों की गुणवत्ता को भी इस घटना से जोड़कर देखा जा रहा है। शिवाकांत केंवट ने बताया कि खाना बनाने के लिए उसने ओडिशा से तेल लाया था। सभी सामग्रियों में इसी का इस्तेमाल किया गया है। बहरहाल फूड सेफ्टी की टीम आज तेल के सैंपल कलेक्ट कर जांच के लिए लैब भेजेगी।

पत्रिका

अजब गजब