राजनीति

राहुल गांधी ने एक बार फिर सिखों की भावनाओं को भड़काने का काम किया!

राहुल गांधी ने एक बार फिर सिखों की भावनाओं को भड़काने का काम किया!
राहुल गांधी ने एक बार फिर सिखों की भावनाओं को भड़काने का काम किया!

नई दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा 1984 सिख दंगों में कांग्रेस पार्टी की भूमिका न होने को लेकर दिए गए बयान के विरोध में दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी एवं पीड़ित विधवाओं ने राहुल गांधी की सद्बुद्धि के लिए सांकेतिक अरदास की।
दिल्ली कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष हरमीत सिंह कालका, महासचिव मनजिन्दर सिंह सिरसा, अमरजीत सिंह, लोकसभा सदस्य प्रेम सिंह चंदूमाजरा, अवतार सिंह हित, कुलदीप सिंह भोगल, कमेटी सदस्य आत्मा सिंह लुबाणा एवं रणजीत कौर ने इस अवसर पर अपने विचार रखे।
कालका ने कहा कि राहुल गांधी ने एक बार फिर सिखों की भावनाओं को भड़काने का काम किया है। कालका ने राहुल गांधी से पूछा कि यदि कांग्रेस ने दंगे नहीं करवाए तो पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दंगों के लिए संसद में माफी क्यों मांगी थी?
राहुल का बयान है सिखों के लिए चेतावनी
मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि राहुल गांधी एक बच्ची के साथ बलात्कार मामले में मोमबत्ती जलाने के लिए आधी रात को इंडिया गेट पहुंच जाते हैं। पर 1984 में हमारी बेटियों तथा बहनों की इज्जत सत्ता के नशे में लूटने वाले कांग्रेसियों को भूल जाते हैं।
राहुल का बयान सिखों को चेतावनी है कि यदि हम दोबारा सत्ता में आए तो एक बार फिर 1984 करेंगे। लोकसभा सदस्य प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने कहा कि कत्लेआम की जांच के लिए बने सभी आयोग तथा कमेटियों के सामने एक बात जगजाहिर हो गई है कि कत्लेआम में कांग्रेसियों का सीधा हाथ था।

पत्रिका

अजब गजब